मत्स्य विभाग उत्तराखंड

उत्तराखंड में मत्स्य विकास हेतु जल सम्पदा प्रचुर मात्र में उपलब्ध है जिसमे मत्स्य विकास कर इस सम्पदा के समुचित उपयोग से मत्स्य उत्पादन में वृद्धि, ग्रामीण आँचल में प्रोटीनयुक्त आहार की उपलब्धता, रोजगार एवं अतिरिक्त आय के साधनों को सृजन तथा निर्बल एवं पिछड़े वर्ग के व्यक्तियों का आर्थिक एवं सामाजिक उत्थान किया जा सकता है| मत्स्य विकास कार्यकमो हेतु नदियों के रूप में 2686 की०मी०, वृहद जलाशयों के रूप में 20075 है०, प्राकृति झीलों के रूप में 297 है० तथा ग्रामीण तालाब एवं पोखरों के रूप 676.41 है० जल छेत्र उपलब्ध है|

read more

Download & Tenders

  • Downloads

 

Valid XHTML 1.0 Transitional